अंतर्राष्ट्रीय सोलर गठबंधन

आईएसए क्या है?

 

अंतर्राष्ट्रीय सोलर गठबंधन (आईएसए) एक संधि आधारित अंतर-सरकारी संगठन है जो सौर ऊर्जा के लाभों का दोहन करने और स्वच्छ ऊर्जा अनुप्रयोगों को बढ़ावा देने के लिए एक वैश्विक बाजार प्रणाली बनाने की दिशा में कार्यरत है। इस वैश्विक समूह में 75 हस्ताक्षरकर्ता देशों के साथ, आईएसए एक बहु-हितधारक पारितंत्र बनाता है जिसमें संप्रभु राष्ट्र, बहुपक्षीय संगठन, उद्योग, नीति-निर्माता और नवप्रवर्तक मिलकर, एक सुरक्षित और धारणीय विश्व की ऊर्जा मांगों को पूरा करने के सामान्य और साझा लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में मिलकर काम करते हैं।

आईएसए की स्थापना करने वाली पेरिस घोषणा में कहा गया है कि सोलर उत्पादन परिसंपत्तियों की स्थापना हेतु वित्त और प्रौद्योगिकी की लागत कम करने के लिए नवप्रवर्तक और ठोस प्रयास करने के लिए देशों की सामूहिक साझी महत्त्वाकांक्षाएं हैं। 2030 तक 1000 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक राशि जुटाते हुए, सदस्य देशों की जरूरतों के लिए भावी सोलर उत्पादन, भंडारण और प्रौद्योगिकियों का मार्ग प्रशस्त करना आईएसए का उद्देश्य है। आईएसए के उद्देश्यों की प्राप्ति सदस्य देशों में जलवायु कार्रवाई को भी सुदृढ़ बनाएगी, जिससे उन्हें उनके राष्ट्रीय निर्धारित योगदान (एनडीसी) में व्यक्त प्रतिबद्धताएं पूरी करने में मदद मिलेगी।

 

उद्देश्य

एतद्‌द्वारा पक्ष एक अंतर्राष्ट्रीय सोलर गठबंधन (यहां से आगे आईएसए कहा गया है) की स्थापना करते हैं, जिसके माध्यम से वे अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप सौर ऊर्जा विस्तार से जुड़ी प्रमुख साझा चुनौतियों का सामूहिक रूप से समाधान करेंगे।

एक विश्व, एक सूर्य, एक ग्रिड को साकार करना ही आईएसए का विज़न है।

 

वैश्विक सोलर बाजार के विकास में आईएसए चार-पहलू वाली भूमिका निभाता है: यह एक एक्सीलेरेटर (गतिवर्धक), एक इनेबलर (सक्षमकर्ता), एक इनक्यूबेटर (विकासकर्ता) और एक फैसिलिटेटर (सुविधादाता) है।

 

एक्सीलेरेटर: मांग संकलन

इनेबलर

इनक्यूबेटर: साझा जोखिम न्यूनीकरण तंत्र (सीआरएमएम)

सुविधादाता (फैसिलिटेटर): परियोजना तैयारी समर्थन/निवेश

प्रत्येक भूमिका का क्या अर्थ है?

 

§    आईएसए, सभी सदस्य देशों में मांग, जोखिम और संसाधन संकलित करने और सामंजस्य बनाने में मदद करता है, इस प्रकार सदस्यों के लिए लागत कम करने के उद्देश्य से ‘खरीदारों का एक बड़ा बाजार’ बनाता है और नवप्रवर्तन और निवेश प्रेरित करता है

§    कई पहलों के माध्यम से संभावित सौर ऊर्जा निवेशों को जोखिम रहित बनाना

§    संसाधन संपन्न देशों में आईएसए, सौर ऊर्जा विकास और स्थापना को बढ़ावा देने की रूकावटें दूर करता है और समाधान प्रस्तुत करता है

§    उपयुक्त द्विपक्षीय या बहुपक्षीय वित्तपोषण खोजने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन सदस्य देशों की सहायता करता है

 

§    आईएसए सीधे तौर पर धन या प्रौद्योगिकी नहीं प्रदान करता; बल्कि यह ऐसी परिस्थितियां बनाने में मदद करता है जो बड़े पैमाने पर सोलर अनुप्रयोगों का वित्तपोषण, विकास और स्थापना संभव बनाती हैं

§    आईएसए एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है जो पूरे विश्व में विचारों, पहलों और तकनीकों की ओर ध्यानाकर्षण करता है

§    आईएसए का स्पष्ट उद्देश्य है: सभी के लिए किफायती ऊर्जा

स्रोत - ईटी 

 

आईएसए के दो प्रमुख सक्षमकर्ता कार्यक्रम:

i- स्टार - सी

i-स्टार-सी का प्रयोजन निम्न हैः

§    प्रशिक्षण/आर एंड डी/मानकीकरण/तकनीक का एक नेटवर्क निर्मित करना स्टार (STAR)- सौर ऊर्जा पर काम करने वाले केंद्र

§    सौर ऊर्जा हितधारकों के लिए ऑनलाइन और व्यक्तिगत प्रशिक्षण कार्यक्रमों के आयोजन

§    मध्य कैरियर पेशेवरों के लिए आईएसए सोलर फेलोशिप प्रदान करने वाले प्रमुख स्टार केंद्रों को परीक्षण और तकनीकी प्रमाणन क्षमताएं प्रदान करना

§    सोलर समृद्ध देशों में सौर ऊर्जा उत्पादन परियोजनाओं के लिए सामान्य जोखिम न्यूनीकरण तंत्र (सीआरएमएम) निर्धारित और संरचित करने के लिए अध्ययन आयोजन की सुविधा प्रदान करना

 

§    आईएसए-सदस्य देशों में सोलर परियोजनाओं को जोखिम रहित करना और वित्तीय लागत कम करना सीआरएमएम का उद्देश्य है।

 

§ सीआरएमएम, सीमित देयता के साथ एक पूल्ड बीमा के रूप में कार्य करेगा। मार्जिनल प्रीमियम के लिए बैंक और बहु-पक्षीय संस्थान निधि में योगदान कर सकते हैं। इससे नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं के विकास के लिए पूंजी लागत कम हो जाएगी। सिंह ने कहा कि भारत आईएसए और उसके संस्थानों की स्थापना की दिशा में प्रमुख भूमिका निभा रहा है

§    सौर ऊर्जा परियोजनाओं हेतु सक्षमकारी वातावरण तैयार करने के लिए सदस्य देशों के लिए हितधारक परामर्श, कार्यशालाओं और मंचों के लिए सुविधा प्रदान करना

 

§    आईएसए, सदस्य देशों को प्राप्ति प्रक्रियाओं में, और तकनीकें संकलित करने में मदद करता है

ताकि प्राप्ति की लागत और प्राप्ति के नियम और शर्तें अनुकूल रहें।

 

§    क्षमता सृजन: आईएसए, स्थानीय उद्यमशीलता और सोलर उपकरणों की स्थानीय असेम्बली को बढ़ावा देने के लिए स्थानीय तकनीशियनों, उद्यमियों आदि के क्षमता सृजन में भी सुविधा प्रदान करता है।

   
   

मार्गदर्शक सिद्धांत

1.   अन्य के अलावा सोलर वित्त, सोलर तकनीकों, नवप्रवर्तन, अनुसंधान और विकास, और क्षमता निर्माण के लिए सदस्य बेहतर सामंजस्य और मांग संकलन के प्रयोजन से, स्वैच्छिक आधार पर शुरू कार्यक्रमों और गतिविधियों के माध्यम से समन्वित कार्रवाई करेंगे।



2.   इस प्रयास में, सदस्य उपयुक्त संगठनों, सार्वजनिक और निजी हितधारकों और गैर-सदस्य देशों के साथ पारस्परिक लाभकारी संबंध स्थापित करने के लिए निकट सहयोग करेंगे और तत्परता से प्रयास करेंगे।



3.   प्रत्येक सदस्य उन सोलर अनुप्रयोगों के लिए, जिनके लिए यह आईएसए के अंतर्गत सामूहिक कार्रवाई के लाभों की अपेक्षा करता है, और सोलर अनुप्रयोगों के एक साझा विश्लेषणात्मक मानचित्रण के आधार पर, इसकी ज़रूरतों और उद्देश्यों के बारे में प्रासंगिक जानकारी; ये उद्देश्य प्राप्त करने के लिए किए गए या किए जाने वाले घरेलू उपाय; मूल्य श्रृंखला और प्रसार प्रक्रिया में अवरोध, साझा और अद्यतन करेगा। सहयोग के लिए संभावित क्षमताएं रेखांकित करने के लिए सचिवालय इन आकलनों का एक डेटाबेस रखेगा।



4.   आईएसए के लिए प्रत्येक सदस्य एक राष्ट्रीय फोकस बिंदु (फोकल प्वाइंट) नामित करेगा। राष्ट्रीय फोकल प्वाइंट में, सदस्य देशों में आईएसए के प्रतिनिधियों का एक स्थायी नेटवर्क होगा। अन्य के अतिरिक्त ये साझा हित क्षेत्रों की पहचान करने, कार्यक्रम प्रस्ताव डिजाइन करने, और आईएसए के उद्देश्यों के क्रियान्वयन के बारे में सचिवालय को सिफारिशें करने के लिए परस्पर, तथा संबंधित हितधारकों के साथ बातचीत करेंगे।

कार्यक्रम, और अन्य गतिविधियाँ

1.   आलेख I और II में वर्णित उद्देश्य और मार्गदर्शक सिद्धांतों को आगे बढ़ाने के लिए सचिवालय के सहयोग से सदस्यों द्वारा समन्वित तरीके से किए जाने वाले कार्य, परियोजनाएं और गतिविधियों का सेट, आईएसए के कार्यक्रम में शामिल है। कार्यक्रमों को अधिकतम विस्तृत प्रभाव और सर्वाधिक संभव संख्या में सदस्यों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इनमें सरल, मापनीय, प्राप्तियोग्य प्रेरक लक्ष्य सम्मिलित हैं।

 

2.   सचिवालय की सहायता से कार्यक्रम प्रस्तावों को सभी राष्ट्रीय फोकल प्वाइंट्‌स के बीच खुली सलाह के माध्यम से, और सदस्यों द्वारा साझा की गई जानकारियों के आधार पर, डिज़ाइन किया जाता है। कार्यक्रम किन्हीं दो सदस्यों या सदस्यों के समूह, या सचिवालय द्वारा प्रस्तावित किया जा सकता है। सचिवालय सभी आईएसए कार्यक्रमों के बीच तालमेल सुनिश्चित करता है।

 

3.   राष्ट्रीय फोकल प्वाइंट्‌स के नेटवर्क के माध्यम से कार्यक्रम प्रस्तावों को सचिवालय द्वारा डिजिटल प्रसार माध्यम से असेम्बली में प्रसारित किया जाता है। कोई कार्यक्रम प्रस्ताव कम से कम दो सदस्यों द्वारा समर्थित होने पर, और यदि दो से अधिक देशों द्वारा आपत्ति न किए जाने पर सम्मिलित होने के इच्छुक सदस्यों द्वारा पालन हेतु खुला माना जाता है।

 

4.   कार्यक्रम प्रस्ताव, शामिल होने हेतु इच्छुक सदस्यों द्वारा औपचारिक रूप से पृष्ठांकित होता है। कार्यक्रम क्रियान्वयन के बारे में सभी निर्णय कार्यक्रम में भागीदार सदस्यों द्वारा लिए जाते हैं। प्रत्येक सदस्य द्वारा देश के नामित प्रतिनिधियों द्वारा, सचिवालय के मार्गदर्शन और सहायता से उन्हें आगे बढ़ाया जाता है।

 

5.   वार्षिक कार्य योजना, आईएसए के कार्यक्रमों और अन्य गतिविधियों का एक अवलोकन प्रदान करती है। इसे सचिवालय द्वारा असेम्बली में प्रस्तुत किया जाता है, जो वार्षिक कार्य योजना के समस्त कार्यक्रम और गतिविधियां आईएसए के समग्र उद्देश्य के अंतर्गत होना सुनिश्चित करता है।

 

आईएसए कार्यक्रम: http://isolaralliance.org/Programmes.aspx

फोटो गैलरी

http://isolaralliance.org/Photos.aspx

आगामी आयोजन

chrome-extension://gphandlahdpffmccakmbngmbjnjiiahp/http://isolaralliance.org/docs/Programme%20Schedule_2019-05-20.pdf  

Go To ISA Website